पुरुषों पर अत्याचार

By पूनम पांडे महिला अधिकारों की जब बात उठती है तो महिलाएं क्या मांगती हैं? जाहिर है बराबरी का अधिकार। लेकिन अगर बराबरी की मांग करते-करते कोई खुद शोषणकारी की तरह बर्ताव करने लगे तो…. कम से कम कुछ मामलों में तो यही हो रहा है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि अभी भी

मैं चाहे शेव करूं या ना करूं….मेरी मर्जी

पूनम पाण्डे नई दिल्ली।। बॉय्ज क्या आपने शेव किया है , अगर नहीं तो हो सकता है कि आपको आलसी का खिताब मिल जाए। कम से कम वे महिलाएं ऐसा कर सकती हैं जो बॉलिवुड ऐक्ट्रेस मुग्धा गोडसे , नेहा धूपिया और मिनिषा लांबा की अपील मान रही हैं। सेफ्टी रेजर के मल्टी नैशनल ब्रैंड